7th International Yoga Conference

इंदौर में होने जा रहा है अनूठा योग महोत्सव, राज्यपाल करेंगी समारोह का उद्घाटन

योग हमारी पुरातन भारतीय जीवन-पद्धति है। इसके माध्यम से तन, मन और मानस को स्वस्थ, सुंदर और संतुलित बनाया जा सकता है। योग से कई गंभीर बीमारियों का आश्चर्यजनक रूप से निदान किया जा रहा है। य ही वजह है कि देश के साथ विदेशों में इसकी लोकप्रियता में तेजी से वृद्धि हुई है। योग प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाकर हमारे जीवन में नव-ऊर्जा, नव चेतना, नव उत्साह का संचार करता है। यह शरीर को शक्तिशाली एवं लचीला बनाए रखता है साथ ही तनाव से भी छुटकारा दिलाता है। योग क्‍या है, योग कैसे किया जाता है, योग कैसे काम करता है, विभिन्‍न बीमारियों को दूर करने के लिए योग कैसे करें, योग के क्‍या फायदे हैं, जटिलतम बीमारियों में कैसे योग क्रियाएं राहत दे रही हैं इन सब बातों को समेटते हुए शहर में एक अनूठा योग आयोजन संपन्न होने जा रहा है।

5 और 6 जनवरी 2019 को इंदौर की धरती पर सातवां अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव आयोजित किया जा रहा है जिसमें देश-विदेश की कई नामचीन हस्तियां, योग विशेषज्ञ और योग विद्यार्थी शामिल होंगे। इस आयोजन की परिकल्पना परमानंद इंस्टिट्यूट ऑफ़ योग साइंसेज, इंदौर के डॉ. स्वामी ओमानंद ने की है और यह सातवां अंतरराष्ट्रीय योग आयोजन उनके ही मार्गदर्शन में होने जा रहा है।

इस सुअवसर पर महामहिम श्रीमती आनंदीबेन पटेल, (राज्यपाल, मप्र/छग) मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हो रही हैं। साथ ही देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के कुलपति श्री नरेंद्र धाकड़ के विशेष आतिथ्य में आयोजित होने वाले इस समारोह में दुनिया भर से हर वर्ग, हर उम्र और हर प्रोफेशन के योग प्रेमी जुट रहे हैं। सभी सम्मिलित प्रतिभागी इस आयोजन में अपनी योग कला, दुर्लभ योग क्रिया और योग विशेषज्ञता का उत्कृष्ट प्रदर्शन करेंगे।

कई विद्वान आचार्य, योगाचार्य, विद्वान, वैज्ञानिक, योग प्रेमी, शिक्षाविद्, प्रोफेसर्स, शोधकर्ता अपने-अपने नवीनतम और मौलिक शोध पत्र पढ़ेंगे। न वीनतम योग तकनीकों से रूबरू कराएंगे। आधुनिक जीवनशैली में जो सरलता से की जा सके ऐसी नई योग विधियां, प्रयोग और उनके रहस्य से अवगत कराएंगे।

प्राचीनतम योग विज्ञान से लेकर आधुनिकतम योग प्रविधियां कहां से कहां तक पहुंच गई हैं और आज उनकी कितनी गहरी उपयोगिता है इन सब पर विशद् चर्चा की जाएगी।

इस समूचे समारोह के आयोजक डॉ. स्वामी ओमानंद ने बताया कि अर्जेंटीना से आए डॉ. सेबस्टियन जानकारी देंगे कि योग चिकित्सा द्वारा कैसे निरोग रहा जा सकता है। साथ ही ब्रेन ट्यूमर, जोड़ों के दर्द, डाइबिटीज़, पीठ के दर्द, माइग्रेन, शरीर की कमजोरियां, तनाव, स्ट्रेस, डिप्रेशन, भय आदि बीमारियों के निदान के शोध आधारित छोटे-छोटे सरलतम उपाय पर भी प्रकाश डालेंगे। डॉ. सेबस्टियन बताएंगे कि योग से कैंसर का इलाज कैसे संभव हो सका है, वे इसके प्रमाण और शोध पत्र भी सबके समक्ष प्रस्तुत करेंगे।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान दिल्ली की डॉ. रीमा प्रतिभागियों को योग के माध्यम से मानसिक समस्याओं की मुक्ति विषय पर विशेष योग संबंधी युक्तियां बताएंगी।

डॉ. रीमा बताएंगी कि स्ट्रेस, टेंशन, डिप्रेशन, फोबिया, भय, ट्रॉमा, कन्फ्यूज़न जैसी आज की जीवन शैली से जन्मी सेहत समस्याएं योग क्रियाओं और तकनीक से कैसे दूर की जा सकती हैं।

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी अमेरिका के डॉ. सेटबिर इस आयोजन में स्पष्ट करेंगे कि कैसे योग द्वारा शारीरिक कमजोरियां, पुरुषत्व और स्त्री संबंधी कमजोरियां कैसे दूर होती हैं।

चारों तरफ अपनी हंसी व ठहाकों से वातावरण को खुशनुमा बनाने और खिलखिलाहट से भर देने के लिए जानेमाने हास्यविज्ञानी लाफ्टर योगा यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष डॉ. मदन कटारिया इस समारोह के विशेष आकर्षण होंगे।

आयोजकों ने जानकारी दी है कि इस समारोह में अर्जेंटीना में प्रथम बार भारतीय ज्योतिष का पंचांग प्रकाशित करने वाले डॉ.  सेबस्टियन, स्पेनिश में पंचांग का विमोचन करेंगे। साथ ही जर्मनी की सर्टिफाइड योगा एवं ध्यान टीचर समीरा भी इस समारोह में विशेष रूप से आ रही हैं जो ओमानंद गुरुजी के मार्गदर्शन से कुंडलिनी शक्ति और चक्र जाग्रत कर चुकी हैं। इस योग महोत्सव में वे वह कुंडलिनी शक्ति कैसे जाग्रत करें इस पर अपनी प्रस्तुति देंगी। फ्रांस के डॉ. एंड्रिया बताएंगे कि अनिद्रा और टेंशन का अद्भुत उपाय है योग निद्रा।

इसी तरह पोलैंड के दामियान कोनिकज़ा विशेष रूप से चिल्ड्रन योगा लेकर आ रहे हैं। स्लोवाकिया के डेग,इजराइल की आइरिस,चेक रेपुलिस की मिशेल जैसी और भी कई योग विभूतियां इस समारोह में शरीक हो रही हैं।

इस महोत्सव में युवाओं के लिए विएतनाम के सबसे बड़े योगा स्कूल के डायरेक्टर प्रवीण वर्मा रुचि का विषय हो सकते हैं। प्रवीण पावर योगा एवं परफेक्ट योगा पर अपनी विशेष प्रस्तुति देंगे। प्रवीण स्वयं विश्व योग विजेता हैं। इनका शरीर रबर की भांति लचीला है और ऐसा उनकी बरसों की साधना से संभव हो सका है।

अधूरा जीवन वियोग है और पूरा जीवन योग है इस विषय पर स्वयं डॉ. ओमानंद व्याख्यान देंगे। आनंदमय ध्यान की गहराइयों से जीवन कैसे रूपांतरित हो सकता है इसका फार्मूला प्रस्तुत करेंगे।

इसी तरह विलुप्त होती हुई योग पद्धति मलखंब की विशेषताओं पर रोशनी डालेंगे विश्व मलखंब संघ के अध्यक्ष, उदय देशपांडे (मुंबई)। वे अपने उद्बोधन में मलखम्ब द्वारा शारीरिक शक्तियों को पुनः जाग्रत करने का रास्ता सुझाएंगे। मलखंब की अनेक टीम इ स अवसर पर हिस्सा लेंगी।

केनेडा के डॉ. राम प्रतिभागियों को बताएंगे कि कैसे योग संगीत द्वारा गंभीरतम रोगों को दूर किया जा सकता है। इस रहस्यसे वे प्रेक्टिकल प्रयोग के माध्यम से पर्दा उठाएंगे। सुर, ताल लय, संगीत, राग, मंत्र और नाद योग से रोगों की मुक्ति के इस अद्भुत प्रदर्शन का लाभ हर कोई ले सकेगा।

 एक अन्य आकर्षण विश्व भर से शामिल योग प्रेमी और योग विद्यार्थियों द्वारा की जाने वाली ‘योग नृत्यांजलि’ होगी जिसमें योग मुद्राओं के माध्यम से सार्थक नृत्य प्रस्तुति दी जाएगी।

इंडिया गॉट टेलेंट के प्रतिस्पर्धी राज रजोले, प्रमोद पटेल अपनी-अपनी योगिक कलाओं का प्रदर्शन करेंगें।

आयोजकों के अनुसार परमानन्द इंस्टिट्यूट ऑफ़ योगा साइंसेज और सहयोगियों के द्वारा आयोजित अंतरराष्ट्रीय योग समागम में योग के क्षेत्र में होने वाली नवीनतम खोज, योग का पुनर्जागरण, योग का महत्व खूबसूरती से बताया जाएगा जो आज की  तनाव भरी जिंदगी में नितांत जरूरी है।

यह कार्यक्रम जनकल्याण की भावना से प्रेरित है अत: सभी के लिए प्रवेश पूर्णतः निःशुल्क है। हर उम्र, हर वर्ग के व्यक्ति के पूर्ण स्वास्थ्य के लिए यह अत्यंत विलक्षण सुअवसर है, जिसका लाभ हर किसी को लेना चाहिए।

स्थान:  स्कूल ऑफ़ कॉमर्सदेवी अहिल्या विश्वविद्यालय परिसरखंडवा रोड़इंदौर

दिनांक: 5 व 6  जनवरी 2019,  शनिवार व रविवार 

समय: प्रात: 9 से शाम 5 बजे तक  

आयोजक : परमानन्द इंस्टिट्यूट ऑफ़ योगा साइंसेज

Click Here for Registration: http://bit.ly/2rj01mE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *