योग टीचर्स ट्रेनिंग सर्टिफिकेट कोर्स

yoga instructor course

योग टीचर्स ट्रेनिंग सर्टिफिकेट कोर्स

अवधि
('५ दिवस आवासीय' तत्पश्चात ४० दिन तक सेल्फ प्रेक्टिस - लेवल १)


योग टीचर्स ट्रेनिंग सर्टिफिकेट कोर्स

अवधि
(३ माह - लेवल २ )


योग टीचर्स ट्रेनिंग सर्टिफिकेट कोर्स

अवधि
(६ माह - लेवल 3)


योग टीचर्स ट्रेनिंग सर्टिफिकेट कोर्स

अवधि
(१ वर्ष - लेवल 4)



योग टीचर्स ट्रेनिंग सर्टिफिकेट कोर्स लेवल १ ('५ दिवस आवासीय' तत्पश्चात ४० दिन तक सेल्फ प्रेक्टिस) ​​
पाठ्यक्रम​ का उद्देश्य एवं उपयोगिता
  • १. इस कोर्स से शारीरिक, मानसिक, सामाजिक, आध्यात्मिक, एवं आत्मिक संतुलन प्राप्त होता है और साथ ही अनेक लाभ होते हैं.
  • २. कोई भी कार्य (पढ़ना, पढ़ाना, ऑफिस, दूकान आदि) करने के पहले उत्तम संतुलन पाने की कला का प्रशिक्षण पाना
  • ३. आजकल विकास के साथ साथ मानसिक तनाव व बीमारियाँ घर घर में घर कर गयीं हैं और आधुनिक चिकित्सा उत्तम होने के बावजूद भी अपने आप को कई जगह असहाय पाती है. ऐसे में योग अचूक और न्यूनतम खर्च में उत्तम रिज़ल्ट देता है.
  • ४. आज समाज में आवश्यकता है समझदार, जानकार और बुद्धिमान योगा टीचर्स की यह बेसिक कोर्स आपको आधारभूत योगा की शिक्षा एवं प्रयोग प्रदान करता है,
  • ५. इस कोर्स के पश्चात आप स्वयं भी स्वस्थ्य रहें औरों को भी स्वस्थ्य रखें।
  • ६. इस कोर्स से विद्यार्थियों की अनेक सामान्य समस्याओं के निदान एवं उपाय योग द्वारा और योग के अनेक लाभों से अवगत होंगें।
​​ न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता : बारहवीं कक्षा के बाद
कोर्स डेट्स:  लेवल १ के कोर्स की तारीखें:
प्रत्येक महीने की १५ तारीख को प्रातः ९ बजे से शुरू हो कर १९ तारीख सायं ४ बजे समाप्ति यह ५ दिवसीय, आवासीय कोर्स होगा।
नित्य टाइम टेबल की शुरुआत सुबह ६ बजे से सायं ७ बजे तक ५ दिवस केम्पस में सीखने के पश्चात नित्य ४० दिन तक स्वयं ९० मिनिट का अभ्यास व अध्ययन।
फीस: रु ५००० (कोर्स पुस्तकें, नेति पॉट, वेलकम किट, योग टी शर्ट, नोट बुक, प्रमाण पत्र, टुइशन फीस, रजिस्ट्रेशन फीस शामिल है).
आवास : शेरिंग रूम, नॉन ए .सी. रु२५० प्रति दिन और भोजन रु१५० प्रति दिन अतिरिक्त देय
कोर्स पाठ्यक्रम:
  • 1. योग : परिभाषा, मूलभूत सिद्धान्त, उद्देश्य .
  • 2. विभिन्न योग - राज योग, भक्ति योग, लय योग, हठ योग, ज्ञान योग, कर्म योग, तंत्र योग
  • 3. योग के मूल सिद्धान्त – योग सूत्र, योग के आठ सूत्र - अष्टांग योग
  • 4. शरीर के विभिन्न तंत्रों पर योगासनों का प्रभाव
  • 5. आसन के विभिन्न प्रभाव, प्राणायाम, मुद्रा, बंध एवं क्रिया
  • 6. यौगिक एवं गैर यौगिक व्यायाम में अंतर
  • 7. योग एवं मानसिक स्वास्थ्य
  • 8. सूर्य नमस्कार
  • 9. चिद्शक्ति ध्यान
  • १०. एकाग्रता एवम मानसिक बल बढ़ाने के उपाय
  • ११. यौगिक प्राचीन ग्रंथों का परिचय
  • १२. योगाभ्यास हेतु सावधानियां
​अनुशंसित पाठ्यक्रम पुस्तकें:
  • १. यथार्थ योग - डॉ ओमानंद
  • ​२. पतंजलि योग सूत्र - अनुवाद; डॉ ओमानंद
  • ३. योग तारावली - आदि शंकराचार्य, अनुवाद डॉ ओमानंद
  • ४. हठ योग प्रदीपिका - प स्वात्माराम - अनुवाद डॉ ओमानंद
  • ५. तत्व बोध - आदि शंकराचार्य - अनुवाद डॉ ओमानंद
  • ६. श्रीमद भगवद गीता - गीता प्रेस गोरखपुर
​​
yoga teacher training
​​
yoga instructor course
Apply
​​
योग टीचर्स ट्रेनिंग सर्टिफिकेट कोर्स लेवल २ (३ माह) ​​
पाठ्यक्रम का उद्देश्य एवं उपयोगिता
  • १ विद्यार्थी के समग्र विकास के लक्ष्य को दृष्टिगत रखते हुए स्मरणशक्ति, एकाग्रता, आत्मनिर्भरता एवं आत्मविश्वास जैसे गुणों को विकसित करना।
  • २ योग के माध्यम से आधुनिक जीवनशैली के कुप्रभावों से मुक्ति के प्रयास की ओर अग्रसर करना।
  • ३ मेधावी नौजवानों को नूतन अनुसंधान हेतु तैयार करना।
  • ४ भारत की प्राचीनतम सांस्कृतिक धरोहर के संरक्षण एवं संवर्धन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाना।
  • ५ समग्र स्वास्थ्य प्रबंधन के लिए भारतीय प्राचीन चिकित्सा पद्धति में योग के महत्व को आधुनिक जीवनशैली में व्यावहारिक बनाना ।
  • ६ मन, शरीर, बुद्धि एवं आत्मा के प्रबंधन से सुखी जीवन की प्राप्ति।
  • ७ उपचार पद्धति के रूप में योग विज्ञान एवं आधुनिक विज्ञान में अन्तर्संबंधो की स्थापना।
​​ न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता : बारहवीं कक्षा के बाद
कोर्स डेट्स:   लेवल २ के कोर्स की तारीखें
प्रत्येक दूसरे महीने की १५ तारीख को प्रातः ९ बजे से शुरू हो कर १९ तारीख सायं ४ बजे समाप्ति यह ५ दिवसीय, आवासीय कोर्स होगा।
नित्य टाइम टेबल की शुरुआत सुबह ६ बजे से सायं ७ बजे तक ५ दिवस केम्पस में सीखने के पश्चात नित्य ४० दिन तक स्वयं ९० मिनिट का अभ्यास व अध्ययन।
फीस: रु ६००० (कोर्स पुस्तकें, नेति पॉट, वेलकम किट, योग टी शर्ट, नोट बुक, प्रमाण पत्र, टुइशन फीस, रजिस्ट्रेशन फीस शामिल है).
आवास : शेरिंग रूम, नॉन ए .सी. रु२५० प्रति दिन और भोजन रु१५० प्रति दिन अतिरिक्त देय
​​
कोर्स पाठ्यक्रम: कोर्स अंतर-राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त योग गुरु व प्रसिद्द डॉक्टरों के द्धारा सिखाया जायेगा:
  • 1. योग : परिभाषा, मूलभूत सिद्धान्त, उद्देश्य .
  • 2. विभिन्न योग - राज योग, भक्ति योग, लय योग, हठ योग, ज्ञान योग, कर्म योग, तंत्र योग
  • 3. योग के मूल सिद्धान्त – योग सूत्र, योग के आठ सूत्र - अष्टांग योग
  • 4. शरीर के विभिन्न तंत्रों पर योगासनों का प्रभाव
  • 5. यौगिक एवं गैर यौगिक व्यायाम में अंतर
  • 6. योग एवं मानसिक स्वास्थ्य
  • 7. चिद्शक्ति ध्यान शरीर विज्ञान का ज्ञान (भौतिक एवं यौगिक शरीर)
  • 8. योग थैरेपी टेक्निक्स का आधारभूत ज्ञान
  • 9. योग विज्ञान एवं दर्शन थियोरी
  • 10. बंध, मुद्रा विज्ञान के चिकित्सकीय प्रयोग एवं उपयोग
  • 11. सूर्य नमस्कार, प्रामाणिक विधि, प्रायोगिक, शारीरिक एवं मानसिक लाभ
  • 12. आसन: आसनों का प्रायोगिक विधान, लाभ, एवं 31 सूत्रीय मार्ग दर्शिका
  • 13. प्राणायाम की मुख्य विधियां एवं प्रायोगिक विधि एवं लाभ
  • 14. शारीरक एवम मानसिक बल बढ़ाने के यौगिक उपाय
  • 15. योगाभ्यास हेतु मार्गदर्शन व सावधानियाँ
  • 16. पतंजली योग दर्शन - परिचय
  • 17. योग प्रोजेक्ट /थीसिस
​अनुशंसित पाठ्यक्रम पुस्तकें:
  • १. यथार्थ योग - डॉ ओमानंद
  • ​२. पतंजलि योग सूत्र - अनुवाद; डॉ ओमानंद
  • ३. योग तारावली - आदि शंकराचार्य, अनुवाद डॉ ओमानंद
  • ४. हठ योग प्रदीपिका - प स्वात्माराम - अनुवाद डॉ ओमानंद
  • ५. तत्व बोध - आदि शंकराचार्य - अनुवाद डॉ ओमानंद
  • ६. श्रीमद भगवद गीता - गीता प्रेस गोरखपुर
​​
yoga instructor course
​​
yoga instructor course
Apply
योग टीचर्स ट्रेनिंग सर्टिफिकेट कोर्स (६ माह) ​​
पाठ्यक्रम का उद्देश्य एवं उपयोगिता
  • १. विद्यार्थी को एक आरम्भिक योग शिक्षक के रूप में स्थापित करना।
  • २. योग के मूलभूत उद्देश्यों एवं लाभों को प्रशिक्षार्थियों में बाँट सके
  • ३. कोर्स से शारीरिक, मानसिक, सामाजिक, आध्यात्मिक, एवं आत्मिक उन्नति व लाभ होते हैं.
  • ५. योग के मूलभूत ग्रंथों के सार का अध्ययन करना एवम प्रायोगिक ज्ञान
  • ५ समग्र स्वास्थ्य प्रबंधन के लिए भारतीय प्राचीन चिकित्सा पद्धति में योग के महत्व को आधुनिक जीवनशैली में व्यावहारिक बनाना ।
​​ अवधि: ६ माह
कोर्स पाठ्यक्रम:
  • 1. योग : परिभाषा, मूलभूत सिद्धान्त, उद्देश्य .
  • 2. विभिन्न योग - राज योग, भक्ति योग, लय योग, हठ योग, ज्ञान योग, कर्म योग, तंत्र योग
  • 3. योग के मूल सिद्धान्त – योग सूत्र, योग के आठ सूत्र - अष्टांग योग
  • 4. शरीर के विभिन्न तंत्रों पर योगासनों का प्रभाव
  • 5. आसन के विभिन्न प्रभाव, प्राणायाम, मुद्रा, बंध एवं क्रिया
  • 6. यौगिक एवं गैर यौगिक व्यायाम में अंतर
  • 7. योग एवं मानसिक स्वास्थ्य
  • 8. चिद्शक्ति ध्यान शरीर विज्ञान का ज्ञान (भौतिक एवं यौगिक शरीर)
  • 9. योग थैरेपी टेक्निक्स का आधारभूत ज्ञान
  • 10. योग विज्ञान एवं दर्शन थियोरी
  • 11. बंध, मुद्रा विज्ञान के चिकित्सकीय प्रयोग एवं उपयोग
  • 12. ध्यान की टेक्निक्स के प्रयोग एवं चिकित्सकीय लाभ
  • 13. पतंजलि योग सूत्र का आधार भूत ज्ञान
  • 14. सूर्य नमस्कार, प्रामाणिक विधि, प्रायोगिक, शारीरिक एवं मानसिक लाभ
  • 15. आसन: आसनों का प्रायोगिक विधान, लाभ, एवं ३१ सूत्रीय मार्ग दर्शिका
  • 16. प्राणायाम की मुख्य विधियां एवं प्रायोगिक विधि एवं लाभ
  • 17. आई क्यू बढ़ाने के यौगिक उपाय
  • 18. योग और मनोविज्ञान का आधारभूत ज्ञान
​​
​अनुशंसित पाठ्यक्रम पुस्तकें:
  • १. यथार्थ योग - डॉ ओमानंद
  • ​​२. पतंजलि योग सूत्र - अनुवाद; डॉ ओमानंद
  • ३. योग तारावली - आदि शंकराचार्य, अनुवाद डॉ ओमानंद
  • ४. हठ योग प्रदीपिका - प स्वात्माराम - अनुवाद डॉ ओमानंद
  • ५. तत्व बोध - आदि शंकराचार्य - अनुवाद डॉ ओमानंद
  • ६. श्रीमद भगवद गीता - गीता प्रेस गोरखपुर
yoga instructor course
​​
yoga instructor course
​​
yoga instructor course
Apply
योग टीचर्स ट्रेनिंग सर्टिफिकेट कोर्स ( १ वर्ष)
पाठ्यक्रम का उद्देश्य एवं उपयोगिता
  • ​१. विद्यार्थी के समग्र विकास के लक्ष्य को दृष्टिगत रखते हुए स्मरणशक्ति, एकाग्रता, आत्मनिर्भरता एवं आत्मविश्वास जैसे गुणों को विकसित करना।
  • २. योग के माध्यम से आधुनिक जीवनशैली के कुप्रभावों से मुक्ति के प्रयास की ओर अग्रसर करना।
  • ३. मेधावी नौजवानों को नूतन अनुसंधान हेतु तैयार करना।
  • ४. भारत की प्राचीनतम सांस्कृतिक धरोहर के संरक्षण एवं संवर्धन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाना।
  • ५. समग्र स्वास्थ्य प्रबंधन के लिए भारतीय प्राचीन चिकित्सा पद्धति में योग के महत्व को आधुनिक जीवनशैली में व्यावहारिक बनाना ।
  • ६. मन, शरीर, बुद्धि एवं आत्मा के प्रबंधन से सुखी जीवन की प्राप्ति।
  • ७. उपचार पद्धति के रूप में योग विज्ञान एवं आधुनिक विज्ञान में अन्तर्संबंधो की स्थापना।

इस कोर्स से शारीरिक, मानसिक, सामाजिक, आध्यात्मिक, एवं आत्मिक लाभ होते हैं. कोई भी कार्य (पढ़ना, पढ़ाना, ऑफिस, दूकान आदि) करने के पहले उत्तम संतुलन पाने की कला का प्रशिक्षण दिया जायेगा आज समाज के विकास के साथ साथ बीमारियाँ घर घर में घर कर गयीं हैं और आधुनिक चिकित्सा उत्तम होने के बावजूद भी अपने आप को कई जगह असहाय पाती है. ऐसे में योग थैरेपी अचूक और न्यूनतम खर्च में उत्तम रिज़ल्ट देती है. आज समाज में आवश्यकता है समझदार, जानकार और बुद्धिमान योगा थैरेपिस्ट्स की. यह बेसिक कोर्स आपको आधारभूत योगा की शिक्षा एवं प्रयोग प्रदान करता है, इस कोर्स के पश्चात आप स्वयं भी स्वस्थ्य रहें औरों को भी स्वस्थ्य रखें। इस कोर्स से विद्यार्थियों की अनेक सामान्य समस्याओं के निदान एवं उपाय योग द्वारा और योग के अनेक लाभों से अवगत होंगें। ​
अवधि: ​​एक वर्ष ​
कोर्स पाठ्यक्रम:

  • 1. योग : परिभाषा, मूलभूत सिद्धान्त, उद्देश्य .
  • 2. विभिन्न योग - राज योग, भक्ति योग, लय योग, हठ योग, ज्ञान योग, कर्म योग, तंत्र योग
  • 3. योग के मूल सिद्धान्त – योग सूत्र, योग के आठ सूत्र - अष्टांग योग
  • 4. शरीर के विभिन्न तंत्रों पर योगासनों का प्रभाव
  • 5. आसन के विभिन्न प्रभाव, प्राणायाम, मुद्रा, बंध एवं क्रिया
  • 6. यौगिक एवं गैर यौगिक व्यायाम में अंतर
  • 7. योग एवं मानसिक स्वास्थ्य
  • 8. चिद्शक्ति ध्यान शरीर विज्ञान का ज्ञान (भौतिक एवं यौगिक शरीर)
  • 9. योग थैरेपी टेक्निक्स का आधारभूत ज्ञान
yoga instructor course yoga instructor course
Apply